X Close
X

कविता : तारानंद वियोगी क जेना सरिपहुं मैथिले छलहुं


आजादी असलियत मे उतरल मिथिला मे कि बलजुमरी थोपल गेल? ओइ दिन पुछने रहथि जगदेव मंडल गिदबास-निवासी हमर मित्र, जिनकर गाम जुगजुग सं गिद्ध बैसबाक कलंक ढोइत मुदा, असल मे जे सब शास्त्रक भूर ढुकबा मे पारंगत असल मे ओ यादव जीक मैथिली लिखबा पर हनछिन क’ रहल छला –क्यो नहि पसंद करै छनि हुनका […]

The post कविता : तारानंद वियोगी क जेना सरिपहुं मैथिले छलहुं appeared first on Esamaad.